Quote Unquote ~ 21/365


मेरे आस पास अँधेरा है फिर भी मैं चमकती हूँ 
हर रोज़ टूट कर नए साँचे में डलती हूँ

Comments

Popular posts from this blog

Here's what I learned in 7 years of blogging

Rewind - May 2020

Rewind - April 2020