Quote Unquote ~ 21/365


मेरे आस पास अँधेरा है फिर भी मैं चमकती हूँ 
हर रोज़ टूट कर नए साँचे में डलती हूँ

Comments

Popular posts from this blog

यूँ दो चार घंटे के लिए नहीं

My poetry is not for foreplay. It's for after sex.

My Life Is A Hollywood Movie And I Fucking Love It