Posts

Featured Post

My poetry is not for foreplay. It's for after sex.

Image
My poetry is not for foreplay. It's for after sex. When you'll light the Marlboro and move to your side of the bed, my poems will be the breath of fresh air in a room filled with smoke. But do not underestimate me. My poems won't be sweet, gentle or mellow. They will be brazen, brutal and bold. I will present them on a sharply-edged knife. The blood on the knife will be hot. Fresh from the wounds I don't allow to heal. You will take a drag from Marlboro - but served with my sinful words - you will feel as if you've snorted cocaine. You will not get high, though. You will see the world in a different light. Murky lanes leading to posh hotels, board rooms and high-rise apartment buildings. In one of those aesthetically decorated rooms, you will see a man f*****g someone's life just for a little pleasure. You will see him getting hard on someone's misery. A woman pleasuring herself while watching a wrecked home that she takes all credit for. To watch

Rewind - December 2021

2021 is finally over. It has been a year with lots of ups and downs emotionally. I'm glad it is over. A few things I wrote in December. Date Published 12/11/2021 मरने से साहब अब कहाँ हम डरते है   हालत ये है कि अब अपनों में भी पराया महसूस करते है 12/12/2021 हर ढलती शाम करती हूँ आपका इंतज़ार फिर से कीजिये ना एक बार इश्क़ बेशुमार 12/27/2021 इक हसीन लम्हें को यूँ बार-बार जिया तुम से ही बेपनाह इश्क़ बार-बार किया Hoping for a better 2022 and working towards it as well. Love, Saru

Rewind - November 2021

This year I have written only a handful of stuff. I thought I would become better at handling emotions with experience, but that's not true. My reaction is certainly better. Management is still an issue. I think I have too much on my platter. It has become extremely difficult to manage time. At the end of the day, I feel exhausted and yet I have not done half of the things I thought I would. There is so much to do and so less time and energy. Hopefully things will change for better in 2022. Here's what I've written in November: Date Published 11/01/2021 मरने के बाद चार लोगों की ज़रूरत होती है जीते जी सिर्फ़ एक  क्या ज़िन्दगी तेरा भी  हिसाब में हाथ तंग सा है 11/16/2021 कैसे करूँ तुझसे इश्क़ बेशुमार तुम दोस्त बुलाते हो और मैं कहती हूँ तुम्हें प्यार 11/17/2021 बहुत आग है इस साली ज़िन्दगी में बस तुम गले लगा के थोड़ी ठंडक दे दो 11/29/2021 धीरे से लेना करवट ऐ ज़िंदगी बहुत अरमान सोए हुए हैं कही वो जाग ना जाए

My Life Is A Hollywood Movie And I Fucking Love It

Image
If you told me at 22, I would be single and happy, I'd have shunned the thought right away. Happiness was always dependent on external factors - money, fame or lover. It was never something that stemmed from within. Betrayal, failure and being penniless has taught me -- of all the things in the world -- happiness is something that comes from within. It comes from who you are as a person. You have to be calm, confident and secure with who you are, what you have and most importantly, with what you can't have. I'm single, starting a career from the very bottom and discovering myself. The journey is not a fairy tale. It is a fucking Hollywood movie that gets nominated for an Oscar. It may not win one. But who the fuck cares! On weekends, after taking a long luxurious bath, I light bergamot candles and keep freshly-cut flowers on the desk where I slog 45 hours a week, my bedroom doesn't reek of loneliness, it looks sexy as fuck. I watch a travel video of Matera and dream of

Rewind - October 2021

Here we are in November. This year was tough. Tougher than freaking 2020. And I survived it. This is what I wrote in October.  Date Published 10/03/2021 उसे दारू की कड़वाहट भी शहद लगती है जिसने ज़हर सा इश्क़ पीया हो 10/07/2021 तुम वापिस लौट के मत आना  इतनी ख़ुशी मुझसे बर्दाश्त नहीं होगी 10/14/2021 जो तुम बहाओ दो आँसू और ना लगे उसे समंदर ऐसे आशिक को तो क़सम से डूब मरना चाहिए 10/17/2021 पैसा, रिश्ते, शौहरत तक तो ठीक था पर तूने जो मासूमियत छीन ली  ऐ ज़िन्दगी अच्छा नहीं किया 10/21/2021 किसी और के साथ फोटो डाल के तुम्हें जलाना हाय ये सारी इश्क़ की आफ़तें

शहर में एक अफवाह सी है, कि आज भी तुझे मेरी परवाह सी है!

Image
शहर में एक अफवाह सी है  कि आज भी तुझे मेरी परवाह सी है वो घर जहाँ घंटों बिताए थे साथ हमने उसे छोड़ने की मेरे पास अब लाखों वजह सी हैं कि आज भी तुझे मेरी परवाह सी है खाली सी साँझों में देखते है लौटते हुए परिंदों को पर इस भरी दुनिया में क्या मेरे लिए कोई जगह भी है क्यों आज भी  तुझे मेरी परवाह सी है क्यों नहीं रह सके  साथ हम उम्र भर  यही सोच सोच ज़िन्दगी  तबाह सी है  फिर क्यों तुझे मेरी परवाह सी है शहर में एक अफवाह सी है  कि आज भी तुझे मेरी परवाह सी है

ख़ूबसूरत हो, ख़ूबसूरत सा दगा देते हो...

Image
I have written a few #songs. Thought of sharing songs that are rejected by #musicians on social media and blog. If anyone wants to compose it, please reach out at contact@sarusinghal.com. Here it goes... मीठे लगते हो पर हो तुम ज़हर ठहरी में साहिल सी   तुम तेज़ कोई लहर मेरे अंदर की आग को कुछ ऐसे हवा देते हो   ख़ूबसूरत हो ख़ूबसूरत सा दगा देते हो   ख़बर फैलें मोहल्ले में   बदनाम हो हम भी   बीते शामें साथ   आधी रात वापिस आऊँ मैं कभी बिस्तर पे सिलवटें हो   उन सिलवटों पे ये कहते हो   ख़ूबसूरत हो ख़ूबसूरत सा दगा देते हो   बेनाम हो रिश्ता हमारा तबाही को क्यूँ नाम दे अधूरे लाखों है यहाँ एक - दूसरे को क्यूँ इलज़ाम दे बनूँ मैं घाट सी तुम नदी सा मुझमें बहते हो   ख़ूबसूरत हो ख़ूबसूरत सा दगा देते हो #baawri_basanti #writer #hindi 

Rewind - September 2021

September was kind to me. I wrote these couplets and did a lot of work on myself... Date Published 09/01/2021 बस इतनी सी तमन्ना है  जितना मैंने तुम्हें प्यार किया उतना कोई मुझे भी प्यार करें 09/05/2021 सुनिए, सरेआम इश्क़ नहीं, तमाशे होते है! 09/07/2021 सफ़ेद कुर्ते पजामे में धीमे-धीमे मुस्कुराना ज़ालिम ख़ूबसूरती की भी एक हद होती है 09/07/2021 तुम मिलने का इरादा तो रखो मैं वक़्त से कहूँगी की वो रुक जाए 09/13/2021 जब मिलता है धोखा दोस्त से तब यक़ीन उससे नहीं खुद से उठ जाता है 09/13/2017 तुम बोलो तो रफू करवा लाती हूँ  तुम्हारे जाने के बाद उम्मीद तार-तार हो गयी है 09/15/2021 तुम आसमाँ की तरह विशाल थे मैं समन्दर की तरह गहरी बस इस ऊँच-नीच के चक्कर में प्यार कही खो गया 09/17/2021  मैंने किया था मशहूर तुझे वरना मेरे इश्क़ से पहले तेरी औक़ात क्या थी 09/26/2021 दूसरों से लड़ना क्या बड़ी बात हैं ये जो खुद से रात-दिन का संघर्ष है ना बस ये इंसान को खोखला कर देता है 09/27/2021 आज शाम घर लौटते हुए परिंदो से जलन हुई वो झुंड में थे और मैं अकेली