कहने की हिम्मत कहाँ से लाऊँ

Hindi Shayari Baawri Basanti Saru

कुछ तो होगा तेरे मेरे बीच

यूँही बिना मिले दिलों के तार नहीं छिड़ते

पतझड़ में भी

वक़्त से पहले पत्ते शाखों से नहीं बिछड़ते


तुम कहोगे अकेलापन वजह है

मैं कहूँगी शायद कुछ और

बस मान लो एक बात कि तुम सुकून से लगते हो

बाकी सब लगता है मुझे शोर


तुम्हें उम्र भर इश्क़ नहीं मिला

तुम्हें यह गिला है

फ़र्ज़ निभाते-निभाते ज़िंदगी यूँही कट गई

हम दोनों का यही सिलसिला हैं


मुझे रत्ती भर इश्क़ तो मिला

पर उससे बड़ा धोखा

सारी ज़िंदगी इसी उम्मीद में रही

मेरी क़िस्मत में भी कोई तुमसा होगा


बस तकदीरों का खेल कह लो

यह ज़िंदगी मुझे रास नहीं आई

तुम कही हो तो सही

पर तेरे-मेरे बीच मीलों लंबी जुदाई


शायद कभी फ़र्क़ पड़ना बंद हो जाएगा

तब तक के लिये गुज़ार लेते है

तुम व्हाट्सएप पे मेसेज भेजते रहना

यूँही तुम्हारी बातों पे हम खुश हो लेते हैं


वैसे इससे ज़्यादा की उम्मीद करती हूँ

पर कह नहीं पाऊँगी

तुम्हारे साथ वक़्त गुज़ारना चाहती हूँ

पर हिम्मत कहाँ से लाऊँगी

*I am striving to make amends for the fact that I failed to compose even a single couplet throughout the month of May.

Comments

Popular posts from this blog

यूँ दो चार घंटे के लिए नहीं

Rewind - September 2023

मुझे तुम्हारी सादगी पसंद आई