Rewind - November 2022

 

Oh, the last month of 2022. What a year it was! I finally finished my book. Looking forward to next year! I wrote the following in November.
 

Date

Published

11/03/2022

दर्द की सिर्फ इतनी सी परिभाषा 

ना दिल में सुकून, ना चैन, ना कोई आशा

11/10/2022

अक्सर बड़े शहरों में लोग वजूद ढूढ़ने आते है 

पर खुद को कब खो बैठते है उन्हें पता भी नहीं चलता


Aksar bade shehron mein log wajood dhoondne aate hai

Par khud ko kab kho baithate hai unhe pata bhi nahi chalta

11/15/2022

अकेलापन से डर नहीं लगता

डर लगता है उस तन्हाई से जिसमें तुम्हारी यादें दबे पाँव आ जाती है 


Akelepan se darr nahi lagta

Darr lagta hai us tanhai se jisme tumhari yaadein dabe paon aa jaati hain

11/28/2022

कोई अपना ही रहा होगा 

इतना दुःख देने की हैसियत किसी पराये की नहीं हो सकती


Koi apna hi raha hoga

Itna dukh dene ki haisiyat kisi paraye ki nahi ho sakti


​​किसी और से बात कर लूँ

तो गज़ भर शक़ करता है

वो बात अलग है हरामी

मुझे अपना प्यार कहने से डरता है


Kisi aur se baat kar lun

Toh gaz-bhar shaq karta hai

Woh baat alag hai haraami

Mujhe apna pyaar kehne se darta hai


Comments

Popular posts from this blog

यूँ दो चार घंटे के लिए नहीं

My poetry is not for foreplay. It's for after sex.

My Life Is A Hollywood Movie And I Fucking Love It