Rewind - October 2022

I think writing poetry has taken a backseat for a while. I have re-written my book this year. Editing is still a challenging task, though. I started doing other things - I ventured into making reels and I did my free Webinar last Saturday. Both of these have been creatively satisfying. But still I want to write more Hindi couplets. The reason is if I am out of practice, it gets difficult to sum up emotions in 2 lines. God willing, in November I will write more.

This is what I wrote in October:

Date

Published

10/16/2022

तुम्हारी आदत चाय सी है 

कमबख़्त कितनी भी कोशिश कर लूँ छूटती ही नहीं

10/18/2022

तुम नँगे पाँव किनारे पर क्या चली

सुलगती रेट में उफान आ गया


घर वाले करते है हर बात पे पैसे की बात

अपने घर में महसूस होती है मुझे अब फकीरो सी औकात


फ़कीरियत सी महसूस होती है अपने ही घर में मुझे

जब घर वाले बात बात पे पैसे की बात करते है


जब घर वाले बात बात पे पैसे की बात करते है

अपने ही घर में फ़कीरियत सी महसूस होती है मुझे


आज तक किसी से कुछ नहीं लिया

पर तुझसे बार बार इश्क़ मांगता हूँ

ये महज़ दिल्लगी नहीं है मोहतरमा

इतना मैं जानता हूँ


Comments

Popular posts from this blog

यूँ दो चार घंटे के लिए नहीं

My poetry is not for foreplay. It's for after sex.

My Life Is A Hollywood Movie And I Fucking Love It