Rewind - October 2021

Here we are in November. This year was tough. Tougher than freaking 2020. And I survived it. This is what I wrote in October. 

Date

Published

10/03/2021

उसे दारू की कड़वाहट भी शहद लगती है

जिसने ज़हर सा इश्क़ पीया हो

10/07/2021

तुम वापिस लौट के मत आना 

इतनी ख़ुशी मुझसे बर्दाश्त नहीं होगी

10/14/2021

जो तुम बहाओ दो आँसू

और ना लगे उसे समंदर

ऐसे आशिक को तो क़सम से

डूब मरना चाहिए

10/17/2021

पैसा, रिश्ते, शौहरत

तक तो ठीक था

पर तूने जो मासूमियत छीन ली 

ऐ ज़िन्दगी अच्छा नहीं किया

10/21/2021

किसी और के साथ फोटो डाल के तुम्हें जलाना

हाय ये सारी इश्क़ की आफ़तें


Comments

Popular posts from this blog

My poetry is not for foreplay. It's for after sex.

My Life Is A Hollywood Movie And I Fucking Love It

Here's what I learned in 7 years of blogging