Rewind - September 2021

September was kind to me. I wrote these couplets and did a lot of work on myself...

Date

Published

09/01/2021

बस इतनी सी तमन्ना है 

जितना मैंने तुम्हें प्यार किया उतना कोई मुझे भी प्यार करें

09/05/2021

सुनिए, सरेआम इश्क़ नहीं,

तमाशे होते है!

09/07/2021

सफ़ेद कुर्ते पजामे में धीमे-धीमे मुस्कुराना

ज़ालिम ख़ूबसूरती की भी एक हद होती है

09/07/2021

तुम मिलने का इरादा तो रखो

मैं वक़्त से कहूँगी की वो रुक जाए

09/13/2021

जब मिलता है धोखा दोस्त से

तब यक़ीन उससे नहीं खुद से उठ जाता है

09/13/2017

तुम बोलो तो रफू करवा लाती हूँ 

तुम्हारे जाने के बाद उम्मीद तार-तार हो गयी है

09/15/2021

तुम आसमाँ की तरह विशाल थे

मैं समन्दर की तरह गहरी

बस इस ऊँच-नीच के चक्कर में

प्यार कही खो गया

09/17/2021 

मैंने किया था मशहूर तुझे

वरना मेरे इश्क़ से पहले तेरी औक़ात क्या थी

09/26/2021

दूसरों से लड़ना क्या बड़ी बात हैं

ये जो खुद से रात-दिन का संघर्ष है ना

बस ये इंसान को

खोखला कर देता है

09/27/2021

आज शाम घर लौटते हुए परिंदो से जलन हुई

वो झुंड में थे और मैं अकेली

Comments

Popular posts from this blog

यूँ दो चार घंटे के लिए नहीं

My poetry is not for foreplay. It's for after sex.

My Life Is A Hollywood Movie And I Fucking Love It