Rewind - May 2021

 I am disappointed. I shall write more and cover more emotions. Hopefully will do it now.

Date

Published

05/03/2021

तुम किसी मोड पे थाम लो मेरा हाथ

बस इसी आस में ज़िंदगी का सफ़र क़ायम है

05/05/2021

रिश्तों में मिलावट है

तो दारु में क्यूँ करें

साली ज़िंदगी में

कोई चीज़ तो नीट हो

05/09/2021

बन के चिट्ठी कभी तेरे घर पे आऊँ

और तुम मेरा हाल-ए-दिल पढ़ लेना

05/12/2021

बहुत अफ़सोस की बात है

कि हज़ारों चिताएँ जल रही हैं 

और कुछ लोग उनपे

अपने हाथ सेंक रहे हैं

05/14/2021

Pain, misery and sorrow are better teachers than books can ever be.

05/24/2021

कि तुम्हें महसूस करने की शिद्दत समझ लो 

हम खाली बिस्तर पे फेर लेते हैं उंगलियाँ


Comments

Popular posts from this blog

Discussion on Blogging on ITV Gold

Here's what I learned in 7 years of blogging

Marooned, I Am...