Rewind - December 2020

2020 is over - finally. And this year has taught us a lot. One of the learnings of this year - I have to write every day for my sanity. And hopefully, in 2021, I will.


This is what I wrote in December 2020:

Date

Content

12/07/2020

मेहनत कीजिए

हाथ पे हाथ रख के बैठने से

हाथों की लकीरें नहीं बदलती

12/09/2020

र रात सोने से पहले तुझे याद करना

ये इश्क़ कम इबादत ज़्यादा लगती है

12/12/2020

उसके कहने पे सिगरेट छोड़ दी

जब उसने छोड़ दिया

तो बचे हुए लाइटर से

उसके ख़त जलाता हूँ

तिल-तिल खुद मर रहा हूँ

पर चिता इश्क़ की सुलगाता हूँ

12/15/2020

मैं, तुम और थोड़ी खामोशी

शाम बिताने के लिए और क्या चाहिए?

12/17/2020

She has fought enough demons

Lived in hell for far too long

To be scared by men around her

12/19/2020

आज भी जब कोई घर का पता पूछता है 

ज़ुबान पे तेरा ही नाम आता है

12/24/2020

आँखें नम होने पे ख़ुश हो जाती हूँ

चलो आज भी कुछ एहसास बाक़ी है मुझमें

12/26/2020

Some people don’t say ‘I love you’ out loud.

They share the last bite of food with you.

Wait for you patiently outside your office as you finish a late shift.

Kiss you goodnight while you doze off watching Netflix.

Hug you when the world doesn’t make sense.

12/27/2020

Life goal - to own a king-size bed and sleep like a queen.

12/28/2020

उधार सी लगती है ज़िंदगी अब

पता नहीं किस-किसके बोझ के नीचे मेरे अरमान दफ़्न है

12/29/2020

लगता है हम ज़िंदगी के मज़े नहीं

ज़िंदगी हमारी ले रही है


Comments

Popular posts from this blog

We are all lonely. Terribly lonely.

Because you are addicted to Gold Flake and I am addicted to you.

Soundarya Sabun Nirma