Rewind - June 2020

Poof! Half of the year is gone. The world has changed. We all are learning to live with the new normal. And I am not writing as much as I should. I hope I write more in July purely because writing gives me sanity.


Date

Content

06/03/2020

नशा कितना भी कर लूँ

ग़म उतरता ही नहीं 


Nasha kitna bhi kar loon

Gum utarata hi nahi

06/04/2020

बिन बोले सब कह जाती हैं

आँखें लफ़्ज़ों की मोहताज नहीं होती

06/06/2020

होपलेस है सजन हरजाई

मैं लाखों सा सवरी 

पर टिकटॉक पे 

नासपीटी कार की वीडियो लगाई


Hopeless hai sajan harjai

Main lakhon sa savri

Par TikTok pe

Naspiti car ki video lagai 

06/07/2020

कुछ ऐसे बदल गए है तेरे जाने के बाद

ग़ैरों से पूछते है खुद का पता


Kuch aise badal gaye hai tere jaane ke baad

Gairon se poochte hai khud ka pata


06/08/2020

आज जुल्फें खोली होंगी उसने 

वरना हवाएँ यूँ महकती नहीं हैं


Aaj zulfein kholi hongi usne

Varna hawaayein yun mehakti nahi hain 


दो बोल प्यार के एक प्याली चाय के साथ 

तो बस फिर चीनी की क्या ज़रुरत 

06/09/2020

तेरी तस्वीर देख दिन कुछ ऐसे काटते है 

मानो आग अंदर लगी है पर पानी बाहर डालते है 

06/24/2020

Love killed hate with slow kisses.

06/25/2020

छोटी-छोटी मुश्किलों में हौसला मत हारो

जूझते तो तूफ़ानों में बड़े-बड़े जहाज़ भी हैं

06/29/2020

कौन मासूम रहता है यहाँ

ज़िंदगी थोड़ा बहुत हरामीपन सबको सीखा देती है 


Kaun masoom rehta hai yahan

Zindagi thoda bahut haraamipan sabko seekha deti hai

06/29/2020

She is fire

She is hell

She is a fucking tsunami

And she is mine



Comments

Popular posts from this blog

Here's what I learned in 7 years of blogging

My poetry is not for foreplay. It's for after sex.

Soundarya Sabun Nirma