Rewind - April 2020

Like March, April 2020 was unkind to this planet. I worked, studied and had very little to write poetry. This is all I could manage to write.


Date
Content
04/08/2020
Kis kaam ke rishte wo
Jo sirf kaam aane pe yaad karte hai

किस काम के रिश्ते वो
जो सिर्फ काम आने पे याद करते है
04/09/2020
देने वाले की हैसियत है साहब
कोई प्यार देता है, कोई धोखा

Dene wale ki haisiyat hai sahab
Koi pyaar deta hai, koi dhokha
04/11/2020
तेरा ज़िक्र होते ही 
गुनगुनी शाम भी थरथराने लगी

Tera zikr hote hi
Gunguni shaam bhi thartharane lagi
04/12/2020
उसकी तारीफ के लिए मेरे पास लफ्ज़ कम पड़ जाते हैं 
और लोग पूछते हैं कि वो अपनी ख़ूबसूरती पे इतना क्यों इतराते है 
04/13/2020
अगर तस्वीरें सच बता पाती 
तो शायर बेरोज़गार हो जाते 

Agar tasveerein sach bata pati
To shayar berozgaar ho jaate
04/13/2020
कल रात चाँद कुछ ऐसे शरमाया 
कि उसने बादलों का घूंघट औढ़ लिया 
04/13/2020
तुम चाय, मैं पार्ले-जी
हर वक़्त तुम में डूबने को तैयार बैठी हूँ 

Tum chai, mein Parle-G
Har waqt tum mein doobne ko taiyaar baithi hun
04/13/2020
सरकारी बाबू जैसे तेवर है जनाब के 
प्यार माँगती हूँ तो कहते है कल आना 

Sarkari babu jaise tevar hai janab ke
Pyaar maangti hun to kehte hai kal aana
04/15/2020
अफ़सोस क्या करें तेरे ना मिलने का 
मिला तो आज तक मैं खुदा से भी नहीं 

Afsoos kya karein tere na milne ka
Mila to aaj tak main khuda se bhi nahi
04/16/2020
बोतलों के साथ मेरी सेल्फ़ियाँ देख
सारे दोस्त हैरान हैं 
साले ठेके बंद है 
इसके पास कौन सी दुकान है

Botlon ke saath meri selfiyaan dekh
Saare dost hairaan hain
Saale theke band hai
Iske paas kaun si dukaan hai
04/16/2020
चार घूँट शराब तू भी पी ले ज़िंदगी 
बड़ी संगीन होती जा रही तू आज-कल 
04/16/2020
आज उसे मुस्कुराता देख 
लफ्ज़ो को शरारत सूझ गई
04/16/2020
अपनी उंगलियों पे तू गिने दिन 
और लगे तुझे महीने 
मुझे पाने की आग 
कुछ ऐसे भड़के तेरे सीने 

Apni ungliyon pe tu gine din
Aur lage tujhe mahine
Mujhe paane ki aag
Kuch aise bhadke tere seene
04/20/2020
Heavily drugged on the intimacy we share on long summer nights. 
04/21/2020
बनारसी साड़ी पहने कल आयी थी तुम्हें रिझाने 
कम्बख़्त लाख कोशिश की तुम नहीं माने 

Banarasi saree pehne kal aayi thi tumhein rijhane
Kambakht lakh koshish ki tum nahi maane
04/21/2020
हौले-हौले से बाहों में लो 
हौले-हौले से प्यार करो 
बस ये एक गलती 
तुम हज़ार बार करो 

Haule-haule se baahon mein lo
Haule-haule se pyaar karo
Bas ye ek galti
Tum hazar baar karo
04/26/2020
कि हमें धमकाने की कोशिश बेकार है 
हम जिगरा जेबों में लिए घूमते हैं 

Ki hume dhamkaane ki koshish bekaar hai
Hum jigra jaibon mein liye ghumte hain
04/30/2020
बहुत रंगीन रहे होंगे उनके किरदार 
जिनके जाने के बाद भीड़ में भी सन्नाटा है 

Bahut rangeen rahe honge unke kirdaar
Jinke jaane ke baad bheed mein bhi sannaata hai

Comments

Popular posts from this blog

To the woman who sleeps with someone else's husband

My poetry is not for foreplay. It's for after sex.

Here's what I learned in 7 years of blogging